1. हिन्दी समाचार
  2. शिक्षा खबरें

शिक्षा खबरें (Education News in Hindi)

UPPSC Exam Calendar 2024: RO/ARO परीक्षा की नई तिथि घोषित, जाने कब है पेपर

UPPSC Exam Calendar 2024: RO/ARO परीक्षा की नई तिथि घोषित, जाने कब है पेपर

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) ने दो महीने के लंबे वक्त के बाद परीक्षाओं का संशोधित कैलेंडर, कल मंगलवार को जारी कर दिया। इस कैलेंडर के तहत जून से दिसंबर तक कुल 14 परीक्षाएं होनी हैं। इसमें पेपर लीक प्रकरण के बाद निरस्त हुई समीक्षा अधिकारी (RO) और सहायक समीक्षा अधिकारी की प्रारंभिक परीक्षा 22 दिसंबर को होनी है।

नमकीन का सेवन ज्यादा करने पर बढ़ सकता है हार्ट डिजीज का खतरा

नमकीन का सेवन ज्यादा करने पर बढ़ सकता है हार्ट डिजीज का खतरा

प्रतिदिन नमकीन खाने की सलाह नहीं दी जा सकती है क्योंकि बहुत अधिक नमक आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। हमारे शरीर को ठीक से काम करने के लिए कम मात्रा में नमक की आवश्यकता होती है, लेकिन इसकी अधिक मात्रा उच्च रक्तचाप और हृदय रोग जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए नमक की सही मात्रा के साथ संतुलित आहार लेना जरूरी है।

गाजियाबाद पैरेंट एसोसिएशन ने घेरा जिलाधिकारी कार्यालय, बच्चों के एडमिशन न होने पर जताई नाराजगी

गाजियाबाद पैरेंट एसोसिएशन ने घेरा जिलाधिकारी कार्यालय, बच्चों के एडमिशन न होने पर जताई नाराजगी

गाजियाबाद पैरेंट एसोसिएशन से जुड़े लोगों ने बुधवार को जिलाधिकारी कार्यालय पर जम कर नारेबाजी की। उन्होंने एक ज्ञापन भी सौपा।

Every Right for Every Child: उत्तर प्रदेश सरकार ने शिक्षा में समानता के लिए ‘हर बच्चे के लिए हर अधिकार’ अभियान किया शुरू

Every Right for Every Child: उत्तर प्रदेश सरकार ने शिक्षा में समानता के लिए ‘हर बच्चे के लिए हर अधिकार’ अभियान किया शुरू

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार ने छात्रों के लिए समान अवसरों की गारंटी देने के उद्देश्य से 'हर बच्चे के लिए हर अधिकार' अभियान शुरू किया है। 'समानता और समावेशन' विषय पर केंद्रित यह अभियान 25 नवंबर तक सक्रिय रहेगा, जिसमें प्राथमिक और उच्च प्राथमिक दोनों स्कूलों में कई गतिविधियां शामिल होंगी।

रिकॉर्ड तोड़ भागीदारी: उत्तर प्रदेश में 1.85 लाख छात्रों ने एनएमएमएस छात्रवृत्ति के लिए करी प्रतिस्पर्धा

रिकॉर्ड तोड़ भागीदारी: उत्तर प्रदेश में 1.85 लाख छात्रों ने एनएमएमएस छात्रवृत्ति के लिए करी प्रतिस्पर्धा

घटनाओं के एक उल्लेखनीय मोड़ में, 5 नवंबर को होने वाली 2024-25 राष्ट्रीय मीन्स-कम-मेरिट छात्रवृत्ति (एनएमएमएस) योजना परीक्षा के लिए उत्तर प्रदेश के हर कोने से 1,85,762 आवेदन आए हैं। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय द्वारा प्रायोजित छात्रवृत्ति, सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त और बेसिक शिक्षा परिषद स्कूलों में 8वीं कक्षा के छात्रों के लिए तैयार की गई है।

Fatehpur News: कंजंक्टिवाइटिस से प्राथमिक विद्यालय के सैकड़ो बच्चे प्रभावित, डॉक्टरों ने बताए बचने के उपाय

Fatehpur News: कंजंक्टिवाइटिस से प्राथमिक विद्यालय के सैकड़ो बच्चे प्रभावित, डॉक्टरों ने बताए बचने के उपाय

जिले के सदर तहसील के कंपोजिट विद्यालय भैरमपुर, बिरसा मुंडा सेवा विद्यालय और विनोबा नगर गिहार बस्ती में कंजेक्टिवाइटिस बीमारी का प्रकोप बड़ी तेजी से फैला और इसने गांव के साथ-साथ प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को भी नहीं छोड़ा भैरमपुर कंपोजिट प्राथमिक विद्यालय के लगभग डेढ़ सौ बच्चे आंखों में काला चश्मा लगाए हुए नजर आए।

विद्यालय का भवन जर्जर होने पर ध्वस्त करने के बाद नहीं ले रहा कोई सुध, एक ही छत के नीचे संचालित हो रही कक्षाएं

विद्यालय का भवन जर्जर होने पर ध्वस्त करने के बाद नहीं ले रहा कोई सुध, एक ही छत के नीचे संचालित हो रही कक्षाएं

नए भवन के निर्माण के लिए प्रभारी प्रधानाधपिका ने कई बार उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा। इसके बाद भी आज तक भवन नहीं बन सका। जिसकी वजह से बच्चों को एक ही छत के नीचे कंबाइंड क्लासों के सहारे पढ़ाई करनी पड़ रही है।

Mirzapur News: कोलना गांव में बने राजकीय गर्ल हाई स्कूल में न छात्रा हैं और न शिक्षिका, फिर भी हर दिन खुलता और बंद होता है

Mirzapur News: कोलना गांव में बने राजकीय गर्ल हाई स्कूल में न छात्रा हैं और न शिक्षिका, फिर भी हर दिन खुलता और बंद होता है

गवर्नमेंट गर्ल जूनियर हाई स्कूल कोलना तकरीबन 6 बीघे जमीन में बना है। इस विद्यालय से पढ़ाई करने वाली छात्राएं उच्च शिक्षा ग्रहण कर डॉक्टर और शिक्षक के पदों पर पहुंची हैं।

Bulandshahr News: भीषण गर्मी और बिजली की कटौती से बच्चों का बुरा हाल, कई बच्चे उल्टी और चक्कर खाकर गिरे

Bulandshahr News: भीषण गर्मी और बिजली की कटौती से बच्चों का बुरा हाल, कई बच्चे उल्टी और चक्कर खाकर गिरे

विद्यालय के शिक्षकों का कहना है कि पांच कमरों में 350 बच्चे पढ़ने को मजबूर हैं। ऊपर से बिजली की कटौती से परेशानी और बढ़ गई है।