1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. सिद्धार्थनगर: ग्राम प्रधान की लापरवाही से सरकारी योजनाएं विफल

सिद्धार्थनगर: ग्राम प्रधान की लापरवाही से सरकारी योजनाएं विफल

केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार गांव के लोगों को तमाम सुविधाएं देने के लिए प्रयासरत है। खासकर गांवों में साफ सफाई रखने और गांवों को शौचमुक्त बनाने को लेकर कई योजनाएं सरकार के ओर से लागू की गई है। लेकिन ग्राम प्रधान और सचिव की लापरवाही के चलते कई योजनाओं का लाभ आम जनता तक नहीं पहुँच पा रहा है।

By: Desk Team  RNI News Network
Updated:
gnews
सिद्धार्थनगर: ग्राम प्रधान की लापरवाही से सरकारी योजनाएं विफल

सिद्धार्थनगर: केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार गांव के लोगों को तमाम सुविधाएं देने के लिए प्रयासरत है। खासकर गांवों में साफ सफाई रखने और गांवों को शौचमुक्त बनाने को लेकर कई योजनाएं सरकार के ओर से लागू की गई है। लेकिन ग्राम प्रधान और सचिव की लापरवाही के चलते कई योजनाओं का लाभ आम जनता तक नहीं पहुँच पा रहा है।

 

इसी संबंध में ताजा मामला भनवापुर विकास खण्ड के भरवठिया मुस्तहकम गांव का है। जहां गांवों में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण तो किया गया है। लेकिन ग्राम प्रधान की लापरवाही के चलते लाखों रुपए खर्च कर सामुदायिक शौचालय बद-से-बदतर स्थिति में हैं।

 

नीचे दिए गए यूट्ब वीडियो में आप साफ तौर पर देख सकते हैं कि सामुदायिक शौचालय में न तो कोई व्यवस्था है और न ही इसकी काफी दिनों से सफाई की गई है। जहाँ एक तरफ सरकार के द्वारा सामुदायिक शौचालय की व्यवस्था को सुधारने में लगी है लेकिन कुछ ऐसे ग्राम पंचायत है जहाँ लाखों रूपये से एक ग्राम पंचायत में दो सामुदायिक शौचालय बनाएं गए हैं। लेकिन दोनों शौचालय बदहाल नजर आ रहे हैं।

 

एक शौचालय में गंदगी का अंबार लगा है तो दूसरे में खासफूस उग आई है। ऐसे में लापरवाह ग्राम प्रधान जहाँ स्वच्छता अभियान की धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे हैं वहीं ग्राम पंचायत बदहाली का शिकार हो रहा है। जिले के आला अधिकारी भले ही समय समय पर साफ सफाई को लेकर समीक्षा करते हैं। लेकिन धरातल पर हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है।

 

  • ग्राम प्रधान की लापरवाही से सरकारी योजनाएं फेल
  • बदहाल हालात में गांव का सामुदायिक शौचालय
  • लाखों रुपए खर्च कर बनाए गए थे सामुदायिक शौचालय
  • सामुदायिक शौचालय में नहीं है कोई भी व्यवस्था
  • ग्राम प्रधान से विभागीय अधिकारियों को संलिप्तता!

 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें गूगल न्यूज़, फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...